RANGOON FLOWERS [ IN INDIA MADHUMALTI FLOWERS AND MADHAVILATA FLOWERS]

Rangoon flowers, madhumaltiINTRODUCTION:-Combretum Indicum also known as Rangoon flowers, in India Rangoon flower is known as MADHUMALTI FLOWERS, some state in India is known as Raat Rani flowers, and someplace in India, these flowers are known as Madhavi lata. This flowering native in Asia is called Asian flowers. why in India his name Madhumalti because Madhu can be found in this plant.

PHYSICAL FORM OF THIS FLOWERS:- Madhumalti flower’s color is the vine with red. This is a Combretaceae family flower. This is a creeper flower. This is blooming with the bunch and found 12 months of a year. Madhumalti flower’s color varies from white to pink to red. It has been cultivated in many countries like India, Thailand, many Asian countries, and outside of Asia.

USE OF THIS FLOWERS:-

This plant used as an herbal product produces. In Ayurveda, this plant is very important many products have produced these plants and their flowers. This plant seed used to cure the disease of Diarrhea and also used this plant product to using gargling. This plant leaves are using for pain relief also fever relief.

DOMESTIC USE OF THIS FLOWERS:-

Madhavi Lata flowers are used in various types of works like the worship of God. There are very famous flowers to use decoration, like home decoration, marriage house decoration, new shop opening, women are used as hair ornaments. Madhumalti flowers completely cover the rooftop. These very beautiful flowers it is also decorating your garden and your home balconies. This flower’s main show at the home entrance point on your homes like your home main gate wall or pillars. Rangoon creeper is fast growing plant an average height of this is 3 feet to 20 feet is sometimes its height is varied.

ENVIRONMENT:-  It’s required to medium sunlight, well soil required, the growth rate of this plant is very fast, these flowers not required heavy fertilizer.

CONCLUSION:-

This is a very important plant flower for ayurvedic. Also, this is very useful to cure any disease. This is a very beautiful and attractive plant flower. Madhumalti flowers blooming all time is the year. His flowers use much domestic work.

 

रंगून फ्लावर्स [ मधुमालती फ्लावर्स एंड माधवी लता फ्लावर्स ]

परिचय: –

Combretum इंडिकॉम को रंगून के फूलों के रूप में भी जाना जाता है, भारत में रंगून के फूल को मधुमालती  फूल के रूप में जाना जाता है, भारत में कुछ राज्य को  रात रानी के फूलों के रूप में जाना जाता है, और भारत में कुछ जगहों पर इन फूलों को माधवी लता के रूप में जाना जाता है। एशिया में उगने के कारन  इस फूल को एशियाई फूल कहा जाता है। भारत में उसका नाम मधुमालती है क्योंकि मधु इस पौधे मे से भी  बनाया जा सकता है।

इस फूल की भौतिक संरचना: –

मधुमालती फूल का रंग लाल के साथ गुलाबी होता  है। यह एक कॉम्ब्रैटेसी परिवार फूल है। यह एक लता फूल है। यह गुच्छा के साथ खिलता  है और वर्ष के 12 महीनों  पाया जाता है। एशियाई फूल  भारत, थाईलैंड, कई एशियाई देशों और एशिया के बाहर कई देशों में इसकी खेती की जाती है।

 

इस फूल का उपयोग करें: –

हर्बल उत्पाद के रूप में इस्तेमाल किया जाने वाला यह पौधा। आयुर्वेद में, यह पौधा बहुत महत्वपूर्ण है कई उत्पादों में इन पौधों के  फूलों का उत्पादन किया है। इस पौधे के बीज का उपयोग डायरिया की बीमारी को ठीक करने के लिए किया जाता था और इस पौधे के उत्पाद का उपयोग गरारे करने के लिए भी किया जाता था। इस पौधे की पत्तियों का उपयोग दर्द से राहत के लिए किया जाता है।

इस फूल की घरेलू उपयोग: –

माधवी लता फूल का उपयोग भगवान की पूजा जैसे विभिन्न प्रकार के कार्यों में किया जाता है। सजावट का उपयोग करने के लिए बहुत प्रसिद्ध फूल हैं, जैसे घर की सजावट, शादी के घर की सजावट, नई दुकान खोलने, महिलाओं ने इस फूल का उपयोग बाल को सजाने के लिए  गहने के रूप में उपयोग  करती है। मधुमालती के फूल पूरी तरह से छत को कवर करते हैं। यह बहुत सुंदर फूल  है यह आपके बगीचे और आपके घर की बालकनियों को भी सजता  है। यह फूल मुख्य रूप से आपके घर के मुख्य द्वार की दीवार या खंभे पर अच्छी तरह खिलता है  आपके घरों के प्रवेश द्वार पर अच्छी तरह दिखाई देते हैं। रंगून क्रीपर तेजी से बढ़ता हुआ पौधा है, इसकी औसत ऊँचाई 3 फीट से 20 फीट होती है, कभी-कभी यह ऊँचाई भिन्न होती है।

पर्यावरण: –

इसके लिए मध्यम धूप की आवश्यकता होती है, अच्छी तरह की मिट्टी की आवश्यकता होती है, इस पौधे की वृद्धि दर बहुत तेज़ होती है, इन फूलों को भारी उर्वरक की आवश्यकता नहीं होती है।

निष्कर्ष: –

यह आयुर्वेदिक के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण पौधा फूल है। साथ ही, किसी भी बीमारी को ठीक करने के लिए यह बहुत उपयोगी है। यह एक बहुत ही सुंदर और आकर्षक पौधा फूल है। मधुमालती के फूल साल के 12 महीने खिलता है । यह  फूल बहुत घरेलू उपयोग में आते हैं।

 

 
Spread the love

Leave a Reply

Close Menu